Ads Right Header

PopAds.net - The Best Popunder Adnetwork

अब्बू से चूत और गांड मरवाई-Abbu se choot aur gand marwayi


अब्बू से चूत और गांड मरवाई-Abbu se choot aur gand marwayi

हेलो मेरे रेगुलर पाठको कैसे हैं आप सब,  मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सब बहुत अच्छे होंगे और chudai के लिए टाइम  जरुर निकाल रहे होंगे | मेरा नाम हसीना बानो है और मैं पाकिस्तान के इस्लामाबाद शहर की रहने वाली हूँ | इस समय मेरी लगभग उम्र 19 वर्ष है और मैं एक पढ़ी-लिखी लड़की हूँ / मेरी ऊँचाई 5 फुट 6 इंच की है और मेरा बदन सेक्सी डॉल के जैसा एकदम कसा हुआ. मेरा रंग एकदम गोरा है और साथ ही मैं बहुत ही खूबसूरत हूँ ऐसा मेरे साथ के बदमाश किस्म के आदमियों का कहना है | नाजरीन मैं इस desikahani.xyz की सभी chudai ki kahani को रेगुलर पढ़ती हूँ और मुझे चुदाई की कहानियां पढना बहुत पसंद है | मुझे इसकी आदत मेरे स्कूल के मौलानाओं  ने लगवा दिए जब वो हमें तालीम देते थे | आज जो मैं आप लोगो के सामने अपनी खुद पर बीती  कहानी पेश कर रही हूँ ये बिल्कुल सच्ची कहानी है और मेरे जीवन की पहली कहानी है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर पसंद आएगी | तो अब मैं आप लोगो के कीमती समय को बर्वाद न करते हुए सीधा अपनी कहानी पर आती हूँ |

choot aur gand marwayi

ये घटना दो साल पहले की है | मेरे घर में, अब्बू-अम्मी, मेरा भाई और मेरी बहन रहते हैं | मेरा भाई अकरम और बहन साजिदा सब एक साथ रहते थे इसलिए दोनों स्कूल में एक ही क्लास में हैं | अब्बू की सुनार की दुकान है और अम्मी घर का काम धंधा  संभालती हैं मेरे साथ| मेरे निकाह के लिए बाते चल रही थी तीन साल तक मेरी शादी नहीं हो पाई  | उसके बाद रोज  मैं चुदाई के लिए तरसने लगी लकिन मुझे चोदे कों क्योकि मेरे अब्बू के सामने किसी हिम्मत नहीं होती थी कोई हमारे घर पर भी निगाह डाले | मेरा अब्बू बहुत चुदक्कड़ किस्म का आदमी है| वो अम्मी को रोज रात में चोदता था ये मुझे मालुम था और अब्बू मेरी अम्मी की गांड को जरूर चोदता था| कभी कभी अम्मी मायके जाति तो अब्बू रंडीबाजी भी करता था. मैं रोज चुपके से जाती और उन दोनों अब्बू और अम्मी की चुदाई देख कर मेरी भी choot aur gand गर्म हो जाती थी| उसके बाद मैं अपने कमरे में आ कर अपनी बुर(bur) को उंगलियों से सहलाती औरअपनी choot ka pani निकाल कर अपने को शांत करतीथी| धीरे-धीरे मेरा यह रोज का काम हो गया था| मेरे अब्बू का लंड बहुत तगड़ा था कोई 9 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा और बहुत काला लंड था जैसे gandi फ्लिमो में हब्सियों के लंड होते हैं मुझे बहुत अच्छे से पता था कि अब्बू मुझे बहुत घूरते है और मुझे चोदना चाहते हैं क्योकि अब्बू को kunwari ladakiyo ki choot और gand मारना बहुत ही पसंद था मैं जब भी घर के आंगन में  झाड़ू पोछा लगाती तो अब्बू  ठरकी की तरह घूरता रहता| अब्बू की नज़र मेरी गांड पर नजर मारता तो कभी मेरे चूचियो पर| खैर मुझे क्या करना था | मैं भी तो चाहती थी कि कोई मुझे चोद-चोद कर संतुष्ट कर दे और मुझे जन्नत का रास्ता दिखा दे| लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा था क्योकि हमारा घर कभी खाली ही नही रहता. मुझे तो एसा लग रहा था कि अल्लाह तो चाहता ही नहीं है कि मुझे जोरदार चुदाई नसीब हो.

kunwari choot aur gand ki seal toti

फिर एक दिन अम्मी जान मायके गई हुई थी और मेरी छोटी बहन रुकसाना भी  उनके साथ गई हुई थी. मेरा भाई अकरम अपने दोस्तों के साथ बाहर खेल रहा था और घर में बस मैं और अब्बू ही थे. मैंने पहले पूरे घर में झाड़ू लगाया और फिर फर्श पर पोछा लगा रही थी. तभी अब्बू वहां पर आ गए और मैंने पूछा कुछ काम है क्या अब्बू जान? तो उन्होंने कहा कि नहीं कुछ काम नहीं है और ये सुन कर मैं अपने काम में बिजी हो गयी गई | जैसे ही मैं उठी तो मेरे बेटीचोद ने मुझे पीछे से आ कर कसकर पकड़ लिया और अपने दोनों हाथों को सामने कर के मेरे दोनों अनछुए स्तनों को जोर-जोर से \ दबाने लगे | मैंने अब्बू छूटने की बहुत कोशिश की लेकिन उनकी पकड़ बहुत मजबूत थी इसलिए मैं कुछ नहीं कर पा रही थी | मैंने उनसे बोल रही थी अब्बू छोड़ दो मुझे क्यूँ कर रहे हो आप ? तो उन्होंने कहा की मादरचोद तू कमरे में चुदाई की कहानियां पढ़ते हुए अपनी choot को अँगुलियों से  सहलाती रहती है और मुझे अपनी kuwari choot देने लिए तड़फाती है | आज मैं तुम्हे जमकर चोदूंगा और गांड भी मरूँगा | मेरे मन में तो लड्डू फूटने लगे और फिर मैंने उनका विरोध करना छोड़ दिया | मैंने कहा मेरी तेरी बेटी हूँ तुमको शर्म नहीं आती है क्या बो बोला बेटी को चोदना तो इस्लाम में कानून है. तो में बोली अच्छा चोद लेना पर किसी को पता चल गया तो तो अब्बू बोला नहीं चलेगा तो में बोली ठीक है लेकिन अपनी पकड़ तो छोड़ साले बेतिचोद अब्बू| उसने मुझे छोड़ने के बाद कहा तू सच में मुझसे चुदवाएगी ? तो मैंने कहा हाँ मैं चुदुंगी क्यूंकि मेरा मेरा मान लंड के लिए तरसता है पर तेरे डर से कोई नहीं चोद पाता हैं इसलिए मेरी choot आज तक कुवारी ही रही | जब मैं तुझे और अम्मी को चुदाई करते हुए देखती थी तो मेरा मन भी करता था चुदवाने का लेकिन मेरे पास तो लंड नहीं है तो कैसे अपनी kuwari choot ki pyas कैसे बुझाती| कुछ देर शांत खड़े रहने के बाद उसने मुझे फिर से अपनी बांहों में भर लिया और अपने होंठ को मेरे होंठ में लगा कर चूसने लगा मेरे होंठ को | मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ को चूस रही थी |

abbu ne gand chodi

बहुत समय बाद मुझे चुदाई नसीब हो रही थी इसलिए मैं बहुत खुश थी | वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरी कठोर छातियों को भी मसल रहा था और मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसकी लंड को मसल रही थी | हम दोनों ने के दूसरे के होंठ को मन भर के चूसा | उसके बाद उसने दरवाजे की कड़ी को लगा दिया | उसके बाद उसने मेरी कुर्ती को उतार कर रख दिया और मेरे गुलाबी ब्रा के ऊपर से ही मेरे बोबे को मसलने लगा तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा की आवाज़ निकलने लगी | कुछ देर के बाद उसने मेरे ब्रा को भी उतार कर फेंक दिया और मेरे दोनों बोबे को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए जोर-जोर से सिसकारियाँ लेने लगी | वो मेरे दोनों छातियों को जोर जोर से मसल रहा था और निप्पलस को खींच-खींच कर चूसने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह उंह आहा आह ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अल्लाह अल्लाह कर रही थी | उसके बाद अब्बू अपनी लुंगी को खोल दिया और अपने बड़े मोटे काले लंड को मेरे मुँह के सामने कर दिया |

abbu ne meri choot ko choda

मेने लंड को अपने हाथ नापा तो मेरी उंगलियों से लेकर कुहनी तक उसका लंड तो मुझे शुरू से बहुत पसंद था इसलिए मैंने देर न करते हुए उसके लंड को हाँथ में ले कर सहलाने लगी और सहलाने के बाद मैंने उसके लंड के टोपे को को अपनी जीभ से चाटने लगी तो उसके मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उसके लंड पर अपनी जीभ से हर जगह घुमा-घुमा कर चाट कर गीला कर रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे बालो को सहला रहा था | उसके बाद मैंने उसे पलंग पर बैठा दी और उसके लंड को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे बोबे को मसलने लगा | मैं उसके लंड को पूरा अन्दर तक चूसते हुए चाट रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिसकारियाँ लेने लगा | फिर उसने मुझे उठा दिया और मेरे सलवार के नाड़े को खोल कर उतार दिया | फिर उसने मेरी मुलायम जांघो को चूमते चाटते हुए मेरी पेंटी भी उतार दिया और मेरी में अपनी जीभ से सहलाते हुए चाटने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी |

abbu ka mota lund mere muh me

वो मेरी पर अपने मुंह को रगड़ते हुए मेरी को जीभ अन्दर कर के चाट रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए बस अलाह को यद् कर रही थी | चूत चाटने के बाद उसने अपने लंड पर बहुत सा थूक लगाया और मेरी अनचुदी kuwari choot के छेद पर में सेट कर अन्दर घुसेडने की नाकाम कोशिश की फिर अब्बू ने मेरी दोनों टांगे ऊपर उठा कर कंधे कर रखी और मेरी चूत के ऊपर फिर लंड को रखा और मुझे बुरी तरह से जकड कर अपना लंड चूम जबरदस्ती ठूंस दिया मेरी जान गले में आ गयी  लेकिन अब्बू मुझे बड़ी बेरहमी से चोदने लगा और मैं उंहा उऊन्हा आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह उई माँ करते हुए चीखने लगी| कुछ देर बाद उसने अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दिया और जोर जरो से मेरी को चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड उचका उचका कर चुदवा रही थी | उसके बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी गांड में अपना लंड फंसा कर मेरी गांड चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी गांड चुदाई का मजा ले रही थी | वो जोर जोर से धक्के मारते हुए मेरी गांड मार रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | करीब एक घंटे की चुदाई के बाद उसने अपना सारा का सारा माल मेरी गांड में ही भर दिया |

char pathano ne ek ladki ko choda

इसके बाद अब्बू मुझे रोज चोदने आता था कई बार अब्बू ने अपने 4 पठान दोस्तों के साथ भी चोदा एक बार तो चारो पठानों ने अपने चारो बड़े-बड़े लंडो से दो गांड में और दो लंड मेरी chhoti si choot में डाल कर लगातार 5 घंटे तक चोदा.
आज मुझे लंडो की इतनी आदत हो गयी है की मुझे रोज चुदाई की जरूरत होती है.

दोस्तों आपको मेरी ये पहली  kahani कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताये.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a Comment

Ads Atas Artikel

Ads Tengah Artikel 1

Ads Tengah Artikel 2

Ads Bawah Artikel