Ads Right Header

PopAds.net - The Best Popunder Adnetwork

School ki ladki ki van me chudai


School ki ladki ki van me chudai

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम अजय है . मैं आज फिर से एक बार आप लोगो की सेवा में अपनी एक kahani को लेकर हाज़िर हूँ . मैं आज जो kahani आप लोगो के सामने लेकर आया हूँ इस kahani में मैंने के लड़की को School वेन में उड़ाया था . दोस्तों मैं जो आज kahani बताने जा रहा हूँ यह kahani आप लोगो को बहुत पसंद आएगी. मैं आप लोगो से ऐसी उम्मीद करता हूँ और आप लोगो को मेरी kahani पसंद आएगी . मैं kahani को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ . मैं रहने वाला इलाहाबाद का हूँ . मेरी उम्र 28 वर्ष है और मेरा रंग गोरा है जिससे मैं दिखने में बहुत सुन्दर लगता हूँ . मेरी ऊंचाई 6 फुट 3 इंच है और मेरी ऊंचाई के हिसाब से मेरी बॉडी भी ठीक है जिससे मैं ज्यादा स्मार्ट लगता हूँ . मैं स्मार्ट हूँ इसलिए मुझसे लड़की जल्दी पट जाती है और मैं अभी तक 6 लड़कियों की चुदाई कर चुका हूँ . दोस्तों मैं अभी पढाई करता हूँ और कोई काम मिल जाये तो कर लेता हूँ . मैं आप लोगो को ज्यादा समय न लेते हुए सीधे अपनी kahani पर आता हूँ .
ये kahani अभी कुछ महीनों पहले की है जब मैं एक School में गाड़ी चलेकर आता था . मैं जिस School में गाड़ी चलेकर आता था उस कॉलेज का नाम नही बताऊंगा . जब मैं उस School की गाड़ी चलाने लगा तो मुझे कुछ दिन को छोटे बच्चो को लाने के लिए कहा गया . तब मैं उस School के नजदीक के बच्चो को लाके School छोड़ देता था और शाम को छुट्टी होने के बाद उन बच्चो को घर छोड़ देता था . मुझे बस इतना ही काम करना पड़ता था . मैं जब कभी कभी School के बच्चो को छोड़कर अपने कॉलेज में चला जाया करता था . मुझे उस School में ऐसे ही काम करते हुए कुछ महीने हो गए तक एक नया लड़का और आ गया तो उसे मेरा काम दे दिया गया और मुझे दूर के बच्चो को लाने के लिए कहा गया . पहले दिन तो मेरे साथ एक आदमी गया जो मुझसे पहले उन लड़कों को लेकर आता था . उस दिन उसने मुझे सबके घर दिखा दिया और उसके बाद मैं अकेले ही जाता और सब लड़कों को लाकर छोड़ता और शाम को ले जाता . मुझे उस वक्त ज्यादा लड़कों को लाना पड़ता था इसलिए दो चक्कर लगता था . जो पहले चक्कर लगता उस रांउड में दूर वाले लड़कों और लड़कियों को ले आता और पास वाले लड़कों और लड़कियों को बाद में लेकर आता था . शाम को पास वाले बच्चो को पहले छोड़ देता था और जो लड़के और लड़कियों को दूर से लाना पड़ता था उनको आराम से शाम तक छोड़ आता था .

kirayedar ki bibi ko choda
 दोस्तों जो दूर के लड़के और लड़कियों को लेकर आता था उसमें की एक लड़की जो काफी दूर रहती थी और उसका नाम साधना था. तो उसे  मैं सबसे पहले लेकर आता था और सबसे बाद में छोड़ने जाता था . वो लड़की दिखने में बहुत सुन्दर थी और बिल्कुल दूध के पनीर की तरह गोरी थी . उसका नाम साधना था और वो काफी बड़े घर की और अमीर खानदान की लड़की थी . मैं उसे पहली बार में पसंद करने लगा था और मैं भी कुछ काम स्मार्ट नही था की उस लड़की को न पटा पाउँ मैंने अभी तक बहुत सेक्सी और कामुक लड़कियों को पटा कर चोद चुका हूँ . इस बार मुझे ये लड़की बहुत पसंद आई थी इसलिए मैं इसको शाम को सबसे बाद छोड़ने जाता था . उसका घर कभी दूर था जिससे कभी कभी बहुत ज्यादा ही देर हो जाती थी .

Cyber Cafe me ladki ki chudai
अब मैं जब उसको सुबह लेने जाता तो उसे घूरता रहता था और वो मुझे देखा करती थी . जब वो मुझे देखती तो मैं उसकी तरह देखने लगता तो वो मेरी तरफ देख कर स्माइल दे देती . दोस्तों मुझे लगा की ये भी पट जाएगी और मैं उसे लाइन मारा करता था . जब शाम को छोड़ने जाता तो भी उसे देखा करता था और कभी कभी ऐसे ही बाते करते हुए जाता . मुझे इस तरह से उससे बाते करते हुए कभी दिन हो गए . जब मैं उससे बाते करता था तो वो भी मुझसे बाते करती हुई बहुत ही सेक्सी और कामुक स्माइल दिया करती थी . मुझे कुछ दिन बात लगा की ये भी मुझे पसंद करती है इसलिए मैं जब उसको शाम को घर छोड़ने जाता तो उसके इधर उधर हाथ भी लगा दिया करता था . फिर एक दिन की बात है जब मैंने उसे बता दिया की मैं उसे प्यार करता हूँ जब मैंने उसे ये बात बताई तो वो मुझे कुछ देर तक ऐसे ही देखती रही . जब वो मुझे ऐसे देखने लगी तो मुझे थोडा डर भी लगा ऐसा नही घर जाते ही मुझे पिटवा दे . फिर वो मुझसे बोली मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ . उस दिन से मेरी और उसकी बाते होने लगी थी . उसके कुछ दिनों के बाद की बाद की बात है जब मैं उसे छोड़ने उसके घर जा रहा था तो उस दिन मैं गाड़ी को एक किनारे रोक दिया . फिर उसके सर को अपने दोनों हाथो से पकड कर उसकी लिप्स(होठों) पर अपनी लिप्स(होठों) को रख दिया . जब मैं उसकी लिप्स(होठों) को मुंह में रख कर चूसने लगा तो वो भी मेरी लिप्स(होठों) को चूसने लगी . दोस्तों जब मैं उसकी लिप्स(होठों) को चूस रहा था तो मुझे उसकी लिप्स(होठों) का स्वाद मीठा सा लग रहा था . मैं उसकी लिप्स(होठों) को चूसने के साथ उसके कपडे के अन्दर हाथ को डाल कर उसके स्तन को दबाने लगा तो उसकी सांसे तेज हो गए . तब मैंने उसके कपडे को ऊपर उठा कर उसके दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा तो उसके मुंह से तेज तेज सांसे निकलने लगी . मैं उसकी वो सांसे सुनकर और जोश में आ गया और उसके दूध को मुंह में भर कर और जोर जोर से चूसने लगा . मैं उसके स्तन को जोर जोर से मुंह में रख कर चूस रहा था .
फिर उसने मुझे मना किया और कहा की घर चलो दोस्तों मेरा फौलादी लंड खड़ा था और मैं उसकी चुदाई किये बिना नही जाने का मन हो रहा था . तब मैंने उससे कहा बस 5 मिनट और रूक जाओ काम हो जायेगा . वो बोली यार आज नही कल चुदाई कर लेना आज घर चलो . जब उसने ये बात कहीं तो मैं मान गया और उसको उसके घर छोड़ दिया . उसके दुसरे दिन की बाद है जब मैं उसे छोड़ने जा रहा था तो देर कभी हो गयी थी तो मैंने गाड़ी को एक सुनसान जगह पर रोका और उसको अपनी अपनी बाँहों में भर लिया . मैं उसकी लिप्स(होठों) पर अपनी लिप्स(होठों) को रख कर चूसने लगा और वो मेरी लिप्स(होठों) को चूसने लगी . जब मैं उसकी रसीली लिप्स(होठों) को चूस रहा था तो उसका स्वाद मीठा सा लग रहा था . मैं उसकी लिप्स(होठों) को ऐसे ही 5 मिनट तक चूसने के बाद उसके और अपने कपडे कपड़ों को उतार दिया . जब मैंने उसके कपडे निकाल दिए तो वो ब्रा और पैंटी में आ गयी . मैं उसके ब्रा को खोल कर उसके दूध को मुंह में रख कर चूसने लगा तो उसके मुंह से जोरदार की कामुक आवाजे निकालने लगी . मैं उसके स्तन को मुंह में रख कर चूस रहा था और दुसरे हाथ की उँगलियों को उसकी छोटी सी चूत में घुसा दिया . मैं उसकी छोटी सी छोटी सी चूत में उँगलियों को घुसा कर जोर जोर से बाहर-भीतरकरने लगा . वो आ आ आ उई उई...... सी उई सी उई सी उई सी उई...... की सिसकियाँ लेने लगी . मैं उसकी वो आवाजे सुनकर उसकी छोटी सी चूत में उँगलियों को और जोर जोर से बाहर-भीतरकरने लगा . फिर उसकी छोटी सी चूत से उँगलियों की निकाल कर अपने फौलादी लंड को उसके हाथ में पकड़ा दिया . वो मेरे फौलादी लंड को हाथ में पकड कर मुंह में रख लिया
फिर बाहर-भीतर करती हुई चूसने लगी . वो मेरे फौलादी लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से बाहर-भीतरकरती हुई चूसने लगी . मैं अपने फौलादी लंड को ऐसे ही कुछ देर तक चुसाने के बाद उसके मुंह से निकाल कर उसकी छोटी सी चूत में फौलादी लंड को घुसा दिया . मेरा फौलादी लंड जैसे ही उसकी छोटी सी चूत में घुसा तो उसने मुंह से जोरदार दर्द भरी आवाज निकल गयी . मैंने उसके मुंह पर हाथ रख दिया और धीरे धीरे बाहर-भीतरकरते हुए चोदने लगा . मैं उसकी छोटी सी चूत में धीरे धीरे बाहर-भीतरकरते हुए कुछ देर तक चोदता रहा . तब उसने मुंह से सेक्सी और कामुक आवाजे निकालने लगी . मैंने तब उसकी छोटी सी चूत में जोरदार झटकों के साथ बाहर-भीतरकरते हुए उसको चोदने लगा . वो मेरे हर झटके का मज़ा लेती हुई चुदने लगी . वो मेरे हर झटके पर मस्त आवाजे करती हुई चुद रही रही . मैं उसकी टांगो को उठा कर जोरदार झटके मारने लगा . कुछ देर में मैंने झटकों की स्पीड इतनी तेज कर दी की कुछ ही देर में उसकी छोटी सी चूत से गर्म पानी की धार निकाल गयी . जब उसकी छोटी सी चूत से पानी निकाल तो पीछे की पूरी सीट गीली हो गयी . फिर मैंने उसकी छोटी सी चूत में दुबारा फौलादी लंड को घुसा दिया और जोरदार झटकों के साथ चोदने लगा . मैं उसको ऐसे ही जोरदार झटकों के साथ कुछ देर तक चोदने के बाद उसकी छोटी सी चूत से फौलादी लंड को निकाल कर उसके मुंह में घुसा दिया . फिर मुठ मारने लगा जिससे मेरे फौलादी लंड ने सारा माल उसके मुंह में निकाल दिया . वो मेरे फौलादी लंड से निकलने वाला सारा वीर्य पी गयी .
फिर मैंने अपने कपडे पहन लिए और उसने अपने कपडे पहन लिए . फिर हम दोनों आगे वाली सीट पर आ गए . उस दिन में उसको उसके घर छोड़ आया और उस चुदाई के बाद मैं उसको अक्सर उसी जगह पर चोदता था और वो चुदाई में मेरा पूरा साथ देती थी.


Previous article
Next article

Leave Comments

Post a Comment

Ads Atas Artikel

Ads Tengah Artikel 1

Ads Tengah Artikel 2

Ads Bawah Artikel