Ads Right Header

PopAds.net - The Best Popunder Adnetwork

चाचा ने मेरी चुदाई की

हैलो दोस्तो कैसे है आप सब
मै रागिनी अपनी पहली चुदाई की कहानी फ्री देसी कहानी डॉट कॉम के माध्यम से
आप सब के साथ साझा करने जा रही हूं
मै अपने बारे में बताऊ तो मेरी हाईट 5 फिट 7 इंच है मेरा बदन एकदम गोरा चिठ्ठा है फिगर की बात करू तो मेरा फिगर 34–28–36 है मेरे बड़े बड़े चूचे किसी को भीउ उत्तेजित कर दे मेरे तने हुए दूध हमेशा टीशर्ट फाड़ कर बाहर आने को उतावले रहते है मै अपनी कमर की तारीफ क्या करू इसे देख कर तो किसी का भी लंड खड़ा हो जाए!
ये कहानी मेरी पहली चुदाई की है
लेकिन अब तो जब तक हफ्ते 1–2 बार अपनी चूत में किसी का मोटा लंबा लंड ना लेलू चूत की प्यास ही नहीं बुझती अगर आप सब भी मेरी चूत को चोदना चाहते है या मुझसे बात करना चाहते हो तो मेरा व्हाट्स ऐप ग्रुप ज्वाइन करे
बात गर्मियों की है चाचू की गर्मियों की छुट्टियां थी चाचू मेरे घर घूमने आए थे जब मैंने चाचू को देखा तो भागते हुए मै उनके गले लग गई और उन्हें अपनी बाहों में भर लिया वो भी अपने हाथ मेरी पीठ पर फेरने लगे फिर मैंने चाचू के गाल पर एक जोर दार किस किया और फिर मै सामने वाले सोफे पर बैठ गई मै पापा मम्मी और चाचू सारे आपस में बाते करने लगे लेकिन चाचू की नजर मेरे तने हुए चूचों पर ही टिकी थी उनका लंड पैंट के ऊपर से साफ़ नजर आ रहा था अब मै उनके इरादों को समझ रही थी काफ़ी देर तक हम सब बाते करते रहे फिर मम्मी ने कहा कि रागिनी चाचू को उनके कमरे ले जाओ मै चाचू के साथ उन्हें उनके कमरे में लेकर गई अभी भी उनकी नजर मेरी नुकीली तनी हुई चूचियों पर ही थी मै चाचू को उनका कमरा दिखा कर चली आई अब मेरा मन भी उनसे चुद ने को कर रहा था।
दूसरे दिन चाचू मम्मी और मै शॉपिंग करने गए मॉल में चाचू कभी मेरी पीठ पर कभी चूतड़ों पर हाथ फेर रहे थे उनका हाथ फेरना मुझे अच्छा लगा रहा था इसी लिए मै इसका बिल्कुल भी विरोध नहीं कर रही थी फिर चाचू ने कहा चलो हम लोग मूवी देखते है मूवी हॉल में एधर उधर मै और मम्मी बैठे थे बीच में चाचू बैठे थे
अब अंधेरे में चाचू की हरकते बढ़ती जा रही थी वो मेरी जांघ को सहला रहे थे एक दो बार तो मैंने उनका हाथ अपनी जांघो से हटा दिया लेकिन वो नहीं माने और मेरी जांघ पर हाथ फेरते रहे फिर मैंने भी इसका बिल्कुल भी विरोध नहीं किया अचानक उन्होंने अपने हाथ को मेरे टॉप के अंदर घुसा दिया और मेरी कुएं जैसी नाभि में उंगली डाल कर सहलाने लगे अब मैंने उनके चेहरे की तरफ देखा और हल्की सी मुस्कान दी थोड़ी देर तक चाचू मेरे पेट और नाभि को सहलाते रहे फिर उन्होंने अपना हाथ मेरी पजामी के अंदर डाल दिया और मेरी चूत को सहलाने लगे अब मै पागल हो रही थी कभी कभी वो अपनी दो उगलियों से मेरे चूत के दाने को मसल देते और मै मचल जाती ये मेरा फस्ट टाइम था जब कोई मर्द मेरी चूत को हाथ लगा रहा था।
फिर अचानक चाचू ने मेरी चूत में अपनी एक उंगली डाल दी मै दर्द से सी करके रह गई और चाचू का हाथ पकड़ कर बाहर निकाल दिया फिर चाचू ने एक बार और कोशिश की मेरी पजामी ने हाथ डालने की लेकिन फिर मैंने चाचू के कान में कहा यहां नहीं घर चल कर करेंगे ये सब फिर चाचू मेरी पीठ के पीछे से हांथ को निकाल कर मेरे चूचे की निप्पल और चूचे की दबाने और मसलने लगे उन्होंने मेरे चूचे की निप्पल की इतना मसला की उसने अब बहुत दर्द हो रहा था।
मूवी देख कर हम लोग घर आ गए मै भाग कर बाथरूम में गई और अपना टॉप उतार कर देखा तो मेरे दाहिने चूचे का निप्पल जिसे चाचू ने मसल मसल कर बिल्कुल लाल और सुजा दिया था फिर मै सीधा अपने कमरे में जाकर बेड पर लेट गई मेरे निप्पल में असहनी दर्द हो रहा था मै अपने हाथ से अपने चूचे को सहला रही थी कि अचानक मेरे कमरे में मेरे चाचू आ गए मै चाचू को देख उठ खड़ी हुई चाचू मेरे पास आकर बोले रागिनी अपनी आंखे बंद करो मैंने कहा क्यों उन्होने कहा करो तो सही मैंने अपनी आंखे बंद करली थोड़ी देर बाद उन्होने आंखे खोल ने को कहा मैंने आंखे खोली तो उनके हाथ में एक नेकलेस था जो कि बहुत अच्छा लग रहा था मैंने पूंछा ये किसके लिए तो चाचू ने कहा तुम्हारे लिए
मै नेकलेस को उनके हाथों से लेने लगी उन्होंने कहा रुको मै पहनाता हूं
फिर मै उनकी तरफ गांड़ करके बोली लो आप ही पहना दो वो मेरे गले में नेकलेस डाल कर उसका हुक लगा रहे थे कि अचानक नेकलेस का एक हिस्सा छूट कर मेरे चूचे की निप्पल में जा लगा मै चीख उठी आह चाचू ने पूंछा क्या हुआ
मैंने कहा कुछ नहीं फिर उन्होंने नेकलेस बांध कर पूछा क्या हुआ चीखी क्यो तब मैंने उन्हें अपने चूचे को टॉप से बाहर निकाल कर दिखाया और कहा इस में बहुत दर्द हो रहा है तो चाचू ने मेरे निप्पल पर एक प्यारा सा चुम्बन किया और कहा ठीक हो जाएगा तभी मम्मी ने आवाज दी खाना तैयार है आजाओ फिर मै और चाचू खाना खाने चले गए खाना खा कर हम लोग अपने अपने कमरे में चले गए।
रात को मै फ्री देसी कहानी डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियां पढ़ रही थी और अपने चूचे को सहला रही थी की अचानक किसी ने मेरे कमरे का दरवाजा खटखटाया मैंने उठकर दरवाजा खोला तो बाहर चाचू खड़े थे फिर चाचू अन्दर आगए और दरवाजे की बंद कर लिया
फिर वो मेरे पास आकर मेरे होंठो को चूसने लगे मै भी उनका साथ देने लगी उनका एक हाथ मेरे दूध पर और दूसरे हाथ से मेरे चूतड़ों को सहला रहे थे वो मुझे बेतहाशा चूम रहे रहे थे।
फिर उन्होंने मेरी टीशर्ट उतार कर मेरी टाईट चुचियों को देखा
मैंने कहा आप भी मेरी चूचियों को वैसे ही चूसो जैसे पोर्न मूवी में कोई लड़का किसी लड़की की चूची चूसता है
उन्होंने पूंछा तू पोर्न मूवी देखती है?
हा मै देखती हू और सेक्सी कहानियां भी पढ़ती हूं लेकिन अभी तक किसी के साथ सेक्स नहीं किया है
फिर वो मेरी उसी चूची को चूसने लगे जिसमें बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था थोड़ी देर तक दर्द हुए बाद ने वही दर्द मस्ती में बदल गया वो बारी बारी से मेरी दोनो चूचियां चूस रहे थे मै भी अपना एक हाथ चाचू के पैंट पर फिरा रही थी और उनके लंड को सहला रही थी
फिर चाचू ने मेरी पजामी को उतार दिया और मुझे बेड पर लिटा कर अपने सारे कपड़े उतार दिए मै उन्हें नंगा देख कर मैंने अपने हाथों से अपना चेहरा छुपा लिया अब चाचू मेरे ऊपर आ गए और अपनी जीभ से मेरी नाभि और पेट को चूमने चाटने लगे
मै सिसकारियां भर रही थी आह…..उ… ह…. अब मै पागलों की तरह कर रही थी चाचू अब और मत तड़पाओ डाल दो अपना लन्ड मेरी चूत में आह!
फिर चाचू ने मेरी पेंटी को उतार दिए मै अपनी जांघो से अपनी छोटी गुलाबी चूत को छुपा रही थी फिर चाचू मेरी चिकनी कमर और जांघो को चाटने लगे मजबूरन मुझे अपनी टांगे फैलानी पड़ी।
मेरी चूत को देख कर चाचू ने कहा क्या चूत है
और वो मेरी चूत को पागलों की तरह चाटने लगे वो अपनी जीभ को मेरी चूत में डाल कर अंदर बाहर कर रहे थे मैने चाचू को बाहों में कस कर कहा चाचू अब और नहीं सहन हो रहा रहने दो अब प्लीज़
मेरा फ़स्ट टाइम था इसी लिए मुझे बहुत गुदगुदी हो रही थी
मै जितना ज्यादा झटपटा रही थी चाचू उतनी ज्यादा जल्दी मेरी चूत चाट रहे थे।
मैंने कहा अब और नहीं डाल दो अपना लन्ड मेरी चूत में चाचू प्लीज़ आह…प्लीज़
अब मुझे सच में सहन नहीं हो रहा था मैं चाचू के सिर के बालों को पकड़ कर अपनी चूत की तरफ खींच रही थी
फिर उन्हें मुझ पर दया आ ही गई
और उन्होंने अपने लन्ड पर थूक लगा कर अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक जोर का धक्का दिया उनके लंड का सुपाड़ा मेरी चूत में समा गया अब मेरी ऊपर की सांस ऊपर और नीचे की सांस नीचे रह गई मेरे गले से आवाज भी नहीं निकाल रही थी मुझे बहुत दर्द हो रहा था मै दर्द से तड़प रही थी
मैंने कहा चाचू प्लीज़ मुझे छोड़ दो मुझे बहुत दर्द हो रहा है इसे बाहर निकाल लो आह मर गई प्लीज़ चाचू सहन नहीं हो रहा
वो मेरी चूत को सहला और चुचियों को चूस रहे थे कि अचानक उन्होंने एक और धक्का दिया।
मै चीख पड़ी हाय चाचू मर गई बाहर निकालो और मै अपनी गांड़ को ईधर उधर करने लगी चाचू ने मेरे होंठो पर अपने होंठ रख कर चूमने लगे मै दर्द में इतनी पागल थी कि मैंने उनका होंठ काट लिया और उन्होने भी गुस्से में एक जोर दार झटका दिया और उनका लंड मेरी सील तोड़ते हुए मेरी चूत में समा गया।
दर्द से मेरी आंखे फटी की फटी रह गई मै तो जैसे बेहोश हो गई थी फिर चाचू मेरी चूत को तेज़ी से सहलाने लगे मै इतना ही कह रही थी चाचू प्लीज़ इसे बाहर निकाल लो मुझे बहुत दर्द हो रहा है और मन में सोच रही थी आज कैसे भी करके बच जाऊ फिर कभी चूत नहीं मर्वाऊंगी
थोड़ी देर बाद मेरा दर्द कुछ कम हुआ और चाचू भी हल्के हल्के धक्के लगाने लगे अभी भी मेरी जान निकाल रही थी थोड़ी देर बाद दर्द मजे में बदल गया अब चाचू भी ताबड़ तोड़ धक्कों से मेरी चूत का भोसड़ा बना रहे थे.
मेरी सांसे तेज़ी से चल रही थी ऊ…हा… ऊ….हा..की आवाज़ों से सारा कमरा गूंज रहा था।
तभी चाचू ने मुझे उठा कर अपने ऊपर आने को कहा लंड को चूत ने डाल कर ही वो नीचे आ गए और मै उनके ऊपर आ गई फिर उन्होंने मुझे अपने होंठो को चूसने को कहा और अब वो गांड़ उठा उठा कर धक्के मारने लगे अब मेरी चूचियां उनकी छाती में रगड़ रही थी मुझे इस एंगल में चुदने में बहुत मजा आ रहा था
( अगर आप सब भी कभी चुदाई करना या करवाना तो इस एंगल में सेक्स करके देखना बहुत मज़ा आता है)
मै उछल उछल कर चुद रही थी की अचानक मेरा शरीर अकड़ने लगा मैंने चाचू से कहा और तेज धक्के मारो मै झडने बाली हूं चाचू ने अपनी स्पीड बढ़ा दी और मेरा पानी छूट गया अब मै पूर्ण रूप से त्रप्त हो चुकी थी लेकिन चाचू अभी भी मेरी चूत का चुकंदर कर रहे थे
लगभग 50 झटको के बाद चाचू ने भी अपना गर्म गर्म माल मेरी चूत में ही गिरा दिया
तो इस तरह से मेरे चाचू ने मेरी सील पैक चूत की चुदाई की और मेरी सील तोड़ कर मेरी चूत का उदघाटन किया

हैलो दोस्तो कैसे है आप सब
मै रागिनी अपनी पहली चुदाई की कहानी फ्री देसी कहानी डॉट कॉम के माध्यम से
आप सब के साथ साझा करने जा रही हूं
मै अपने बारे में बताऊ तो मेरी हाईट 5 फिट 7 इंच है मेरा बदन एकदम गोरा चिठ्ठा है फिगर की बात करू तो मेरा फिगर 34–28–36 है मेरे बड़े बड़े चूचे किसी को भी उत्तेजित कर दे मेरे तने हुए दूध हमेशा टीशर्ट फाड़ कर बाहर आने को उतावले रहते है मै अपनी कमर की तारीफ क्या करू इसे देख कर तो किसी का भी लंड खड़ा हो जाए!
ये कहानी मेरी पहली चुदाई की है
लेकिन अब तो जब तक हफ्ते 1–2 बार अपनी चूत में किसी का मोटा लंबा लंड ना लेलू चूत की प्यास ही नहीं बुझती अगर आप सब भी मेरी चूत को चोदना चाहते है या मुझसे बात करना चाहते हो तो मेरा व्हाट्स ऐप ग्रुप ज्वाइन करे
बात गर्मियों की है चाचू की गर्मियों की छुट्टियां थी चाचू मेरे घर घूमने आए थे जब मैंने चाचू को देखा तो भागते हुए मै उनके गले लग गई और उन्हें अपनी बाहों में भर लिया वो भी अपने हाथ मेरी पीठ पर फेरने लगे फिर मैंने चाचू के गाल पर एक जोर दार किस किया और फिर मै सामने वाले सोफे पर बैठ गई मै पापा मम्मी और चाचू सारे आपस में बाते करने लगे लेकिन चाचू की नजर मेरे तने हुए चूचों पर ही टिकी थी उनका लंड पैंट के ऊपर से साफ़ नजर आ रहा था अब मै उनके इरादों को समझ रही थी काफ़ी देर तक हम सब बाते करते रहे फिर मम्मी ने कहा कि रागिनी चाचू को उनके कमरे ले जाओ मै चाचू के साथ उन्हें उनके कमरे में लेकर गई अभी भी उनकी नजर मेरी नुकीली तनी हुई चूचियों पर ही थी मै चाचू को उनका कमरा दिखा कर चली आई अब मेरा मन भी उनसे चुद ने को कर रहा था।
दूसरे दिन चाचू मम्मी और मै शॉपिंग करने गए मॉल में चाचू कभी मेरी पीठ पर कभी चूतड़ों पर हाथ फेर रहे थे उनका हाथ फेरना मुझे अच्छा लगा रहा था इसी लिए मै इसका बिल्कुल भी विरोध नहीं कर रही थी फिर चाचू ने कहा चलो हम लोग मूवी देखते है मूवी हॉल में एधर उधर मै और मम्मी बैठे थे बीच में चाचू बैठे थे
अब अंधेरे में चाचू की हरकते बढ़ती जा रही थी वो मेरी जांघ को सहला रहे थे एक दो बार तो मैंने उनका हाथ अपनी जांघो से हटा दिया लेकिन वो नहीं माने और मेरी जांघ पर हाथ फेरते रहे फिर मैंने भी इसका बिल्कुल भी विरोध नहीं किया अचानक उन्होंने अपने हाथ को मेरे टॉप के अंदर घुसा दिया और मेरी कुएं जैसी नाभि में उंगली डाल कर सहलाने लगे अब मैंने उनके चेहरे की तरफ देखा और हल्की सी मुस्कान दी थोड़ी देर तक चाचू मेरे पेट और नाभि को सहलाते रहे फिर उन्होंने अपना हाथ मेरी पजामी के अंदर डाल दिया और मेरी चूत को सहलाने लगे अब मै पागल हो रही थी कभी कभी वो अपनी दो उगलियों से मेरे चूत के दाने को मसल देते और मै मचल जाती ये मेरा फस्ट टाइम था जब कोई मर्द मेरी चूत को हाथ लगा रहा था।
फिर अचानक चाचू ने मेरी चूत में अपनी एक उंगली डाल दी मै दर्द से सी करके रह गई और चाचू का हाथ पकड़ कर बाहर निकाल दिया फिर चाचू ने एक बार और कोशिश की मेरी पजामी ने हाथ डालने की लेकिन फिर मैंने चाचू के कान में कहा यहां नहीं घर चल कर करेंगे ये सब फिर चाचू मेरी पीठ के पीछे से हांथ को निकाल कर मेरे चूचे की निप्पल और चूचे की दबाने और मसलने लगे उन्होंने मेरे चूचे की निप्पल की इतना मसला की उसने अब बहुत दर्द हो रहा था।
मूवी देख कर हम लोग घर आ गए मै भाग कर बाथरूम में गई और अपना टॉप उतार कर देखा तो मेरे दाहिने चूचे का निप्पल जिसे चाचू ने मसल मसल कर बिल्कुल लाल और सुजा दिया था फिर मै सीधा अपने कमरे में जाकर बेड पर लेट गई मेरे निप्पल में असहनी दर्द हो रहा था मै अपने हाथ से अपने चूचे को सहला रही थी कि अचानक मेरे कमरे में मेरे चाचू आ गए मै चाचू को देख उठ खड़ी हुई चाचू मेरे पास आकर बोले रागिनी अपनी आंखे बंद करो मैंने कहा क्यों उन्होने कहा करो तो सही मैंने अपनी आंखे बंद करली थोड़ी देर बाद उन्होने आंखे खोल ने को कहा मैंने आंखे खोली तो उनके हाथ में एक नेकलेस था जो कि बहुत अच्छा लग रहा था मैंने पूंछा ये किसके लिए तो चाचू ने कहा तुम्हारे लिए
मै नेकलेस को उनके हाथों से लेने लगी उन्होंने कहा रुको मै पहनाता हूं
फिर मै उनकी तरफ गांड़ करके बोली लो आप ही पहना दो वो मेरे गले में नेकलेस डाल कर उसका हुक लगा रहे थे कि अचानक नेकलेस का एक हिस्सा छूट कर मेरे चूचे की निप्पल में जा लगा मै चीख उठी आह चाचू ने पूंछा क्या हुआ
मैंने कहा कुछ नहीं फिर उन्होंने नेकलेस बांध कर पूछा क्या हुआ चीखी क्यो तब मैंने उन्हें अपने चूचे को टॉप से बाहर निकाल कर दिखाया और कहा इस में बहुत दर्द हो रहा है तो चाचू ने मेरे निप्पल पर एक प्यारा सा चुम्बन किया और कहा ठीक हो जाएगा तभी मम्मी ने आवाज दी खाना तैयार है आजाओ फिर मै और चाचू खाना खाने चले गए खाना खा कर हम लोग अपने अपने कमरे में चले गए।
रात को मै फ्री देसी कहानी डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियां पढ़ रही थी और अपने चूचे को सहला रही थी की अचानक किसी ने मेरे कमरे का दरवाजा खटखटाया मैंने उठकर दरवाजा खोला तो बाहर चाचू खड़े थे फिर चाचू अन्दर आगए और दरवाजे की बंद कर लिया
फिर वो मेरे पास आकर मेरे होंठो को चूसने लगे मै भी उनका साथ देने लगी उनका एक हाथ मेरे दूध पर और दूसरे हाथ से मेरे चूतड़ों को सहला रहे थे वो मुझे बेतहाशा चूम रहे रहे थे।
फिर उन्होंने मेरी टीशर्ट उतार कर मेरी टाईट चुचियों को देखा
मैंने कहा आप भी मेरी चूचियों को वैसे ही चूसो जैसे पोर्न मूवी में कोई लड़का किसी लड़की की चूची चूसता है
उन्होंने पूंछा तू पोर्न मूवी देखती है?
हा मै देखती हू और सेक्सी कहानियां भी पढ़ती हूं लेकिन अभी तक किसी के साथ सेक्स नहीं किया है
फिर वो मेरी उसी चूची को चूसने लगे जिसमें बहुत ज्यादा दर्द हो रहा था थोड़ी देर तक दर्द हुए बाद ने वही दर्द मस्ती में बदल गया वो बारी बारी से मेरी दोनो चूचियां चूस रहे थे मै भी अपना एक हाथ चाचू के पैंट पर फिरा रही थी और उनके लंड को सहला रही थी
फिर चाचू ने मेरी पजामी को उतार दिया और मुझे बेड पर लिटा कर अपने सारे कपड़े उतार दिए मै उन्हें नंगा देख कर मैंने अपने हाथों से अपना चेहरा छुपा लिया अब चाचू मेरे ऊपर आ गए और अपनी जीभ से मेरी नाभि और पेट को चूमने चाटने लगे
मै सिसकारियां भर रही थी आह…..उ… ह…. अब मै पागलों की तरह कर रही थी चाचू अब और मत तड़पाओ डाल दो अपना लन्ड मेरी चूत में आह!
फिर चाचू ने मेरी पेंटी को उतार दिए मै अपनी जांघो से अपनी छोटी गुलाबी चूत को छुपा रही थी फिर चाचू मेरी चिकनी कमर और जांघो को चाटने लगे मजबूरन मुझे अपनी टांगे फैलानी पड़ी।
मेरी चूत को देख कर चाचू ने कहा क्या चूत है
और वो मेरी चूत को पागलों की तरह चाटने लगे वो अपनी जीभ को मेरी चूत में डाल कर अंदर बाहर कर रहे थे मैने चाचू को बाहों में कस कर कहा चाचू अब और नहीं सहन हो रहा रहने दो अब प्लीज़
मेरा फ़स्ट टाइम था इसी लिए मुझे बहुत गुदगुदी हो रही थी
मै जितना ज्यादा झटपटा रही थी चाचू उतनी ज्यादा जल्दी मेरी चूत चाट रहे थे।
मैंने कहा अब और नहीं डाल दो अपना लन्ड मेरी चूत में चाचू प्लीज़ आह…प्लीज़
अब मुझे सच में सहन नहीं हो रहा था मैं चाचू के सिर के बालों को पकड़ कर अपनी चूत की तरफ खींच रही थी
फिर उन्हें मुझ पर दया आ ही गई
और उन्होंने अपने लन्ड पर थूक लगा कर अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक जोर का धक्का दिया उनके लंड का सुपाड़ा मेरी चूत में समा गया अब मेरी ऊपर की सांस ऊपर और नीचे की सांस नीचे रह गई मेरे गले से आवाज भी नहीं निकाल रही थी मुझे बहुत दर्द हो रहा था मै दर्द से तड़प रही थी
मैंने कहा चाचू प्लीज़ मुझे छोड़ दो मुझे बहुत दर्द हो रहा है इसे बाहर निकाल लो आह मर गई प्लीज़ चाचू सहन नहीं हो रहा
वो मेरी चूत को सहला और चुचियों को चूस रहे थे कि अचानक उन्होंने एक और धक्का दिया।
मै चीख पड़ी हाय चाचू मर गई बाहर निकालो और मै अपनी गांड़ को ईधर उधर करने लगी चाचू ने मेरे होंठो पर अपने होंठ रख कर चूमने लगे मै दर्द में इतनी पागल थी कि मैंने उनका होंठ काट लिया और उन्होने भी गुस्से में एक जोर दार झटका दिया और उनका लंड मेरी सील तोड़ते हुए मेरी चूत में समा गया।
दर्द से मेरी आंखे फटी की फटी रह गई मै तो जैसे बेहोश हो गई थी फिर चाचू मेरी चूत को तेज़ी से सहलाने लगे मै इतना ही कह रही थी चाचू प्लीज़ इसे बाहर निकाल लो मुझे बहुत दर्द हो रहा है और मन में सोच रही थी आज कैसे भी करके बच जाऊ फिर कभी चूत नहीं मर्वाऊंगी
थोड़ी देर बाद मेरा दर्द कुछ कम हुआ और चाचू भी हल्के हल्के धक्के लगाने लगे अभी भी मेरी जान निकाल रही थी थोड़ी देर बाद दर्द मजे में बदल गया अब चाचू भी ताबड़ तोड़ धक्कों से मेरी चूत का भोसड़ा बना रहे थे.
मेरी सांसे तेज़ी से चल रही थी ऊ…हा… ऊ….हा..की आवाज़ों से सारा कमरा गूंज रहा था।
तभी चाचू ने मुझे उठा कर अपने ऊपर आने को कहा लंड को चूत ने डाल कर ही वो नीचे आ गए और मै उनके ऊपर आ गई फिर उन्होंने मुझे अपने होंठो को चूसने को कहा और अब वो गांड़ उठा उठा कर धक्के मारने लगे अब मेरी चूचियां उनकी छाती में रगड़ रही थी मुझे इस एंगल में चुदने में बहुत मजा आ रहा था
( अगर आप सब भी कभी चुदाई करना या करवाना तो इस एंगल में सेक्स करके देखना बहुत मज़ा आता है)
मै उछल उछल कर चुद रही थी की अचानक मेरा शरीर अकड़ने लगा मैंने चाचू से कहा और तेज धक्के मारो मै झडने बाली हूं चाचू ने अपनी स्पीड बढ़ा दी और मेरा पानी छूट गया अब मै पूर्ण रूप से त्रप्त हो चुकी थी लेकिन चाचू अभी भी मेरी चूत का चुकंदर कर रहे थे
लगभग 50 झटको के बाद चाचू ने भी अपना गर्म गर्म माल मेरी चूत में ही गिरा दिया
तो इस तरह से मेरे चाचू ने मेरी सील पैक चूत की चुदाई की और मेरी सील तोड़ कर मेरी चूत का उदघाटन किया

Previous article
This Is The Newest Post
Next article

Leave Comments

Post a comment

Ads Atas Artikel

Ads Tengah Artikel 1

Ads Tengah Artikel 2

Ads Bawah Artikel